चार साल के छोटे से बच्चे ने बताई अपने पिछले जन्म की सभी बाते

चार साल के छोटे से बच्चे ने बताई अपने पिछले जन्म की सभी बाते

लखनउ। आज के दौर में भले ही विज्ञान पुनर्जन्म की बात को मनगढ़ंत कहकर खारिज करता हो, मगर कभी—कभी इस तरह की बाते सच भी हो जाती है। ऐस ही एक मामला भूटान में सुनने को मिला है। जहां पर राज घराने के छोटे बच्चे ने रिनपोछे ने अपने पिछले जन्म की कहानी बता कर पूरे इलाके में सनसनी फैला दी थी। लेकिन अब इसी तरह की कहानी उत्तर प्रदेश में बौद्ध तपोस्थली श्रावस्ती में सुनने को मिली है।
मीडियां खबरों के मुताबिक उत्तर प्रदेश के बौद्ध तपोस्थली श्रावस्ती के शिव बालकपुरवा में एक छोटे चार साल के सूर्य प्रकाश बबलू ने पुनर्जन्म की कहानी अपनी तोतली जुबान से सुनाकर विज्ञान को चुनौती दे डाली है। इतना ही नहीं इस पुनर्जन्म की कहानी फैलने के बाद से बबलू को देखने के लिए दूर—दूर से लोगों का तांता लगना शुरू हो गया है। वहीं बबलू की यह कहानी सुनकर लोग दांतों तले अंगुली दबाने को विवश हो गए है।

क्या है पूरा मामला

जानकारी के मुाताबिक बबलू श्रावस्ती जिले में भिन्गा कोतवाली क्षेत्र के शिव बालक पुरवा का रहने वाला है। वहीं बबलू की उम्र इस समय करीब चार साल बताई जा रही है। उसके परिजनों के मुताबिक बललू कहना है कि पिछले जन्म में वह दिल्ली से आगे मनवाला गांव के निवासी शिवशंकर का बेटा चन्द्रमूड़ी है। वहीं यह परिवार लोनिया बिरादरी का बताया जा रहा है, उसने बताया कि शिवशंकर के तीन संतान थी, जिनमें दो बेटे थे। इनमें एक का नाम शिवनाथ और दूसरे का नाम भोला बताया है, वहीं इसके अलावा उसकी एक बेटी सूर्यमुखी भी थी।

बबलू को पिछले जन्म की हर बात है याद

अपने पुनर्जन्म के बारे में बबलू ने बताया कि कि वह पिछले जन्म में एक किसान था, उसने बताया कि खेती करने के लिए उसके पास 10 बीघा जमीन भी थी, साथ ही खेती करने के लिए उसके पास एक ट्रैक्टर भी था। इसके अलावा उसके पास एक पक्का मकान भी था, जिसमें 9 कमरे थे। बबलू ने बताया कि वह अपने भाइयों में सबसे बड़ा था, इसके बाद 90 साल की उम्र में उसकी मौत हो गई थी। वहीं मौत के दस साल बाद उसने यहां इस जगह पर नया जन्म लिया है।
बता दे कि इस बारे में बबलू के पिता का कहना है कि उसके बेटे ने पिछले दस दिनों से पिछले जन्म की बात बतानी शुरू की है। उन्होंने बताया कि बबलू अभी चार साल का है और वह अपनी मां का दूध पीता है। वहीं इस बारे में बललू की मां का कहना है कि करीब दस दिन पूर्व जब वह शाम को दूध पिलाने की जिद कर रहा था, मगर मां के काम में ज्यादा व्यस्त होने के कारण उसे टाल दिया। इसके बाद मां उसे बिस्तर पर लेटने की बात कहकर वह फिर से काम में व्यस्त हो गई।

बबलू की कहानी सुनकर मां भी हो गई परेशान

बबलू की मां के मुताबिक जब वह बिस्तर पर गई तो बबलू जाग रहा था, इसके बाद उसने बबलू को डांटते हुए कहा कि तुम अभी तक सोए नहीं हो। जिसके बाद उसकी इस बात से बबलू नाराज हो गया। इतना ही नहीं इसके बाद वह अपनी मां को अपनी मां नहीं होने की बात कहकर अपने पिछले जन्म की बात बताने लगा। जिसके बाद मां ने रात को बबलू की बात को गुस्सा समझ कर टाल दिया। लेकिन जब दूसरे दिन सुबह फिर उसने अपने पिछले जन्म की बात करनी शुरू कर दी। इसके बाद वह धीरे-धीरे करके पिछले जन्म की सारी बातें बताने लगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *